FacebookTwitterg+Mail

कभी 800 रुपए में नौकरी करने वाली मुकेश अंबानी की पत्नी नीता ने शादी से पहले रखी थी ये शर्त

neeta ambani strange condition to get marry with mukesh ambani
19 November, 2017 10:47:59 AM

मुंबई: धीरूभाई अंबानी के बड़े बेटे, मुकेश अंबानी अलिबाबा के संस्थापक जैक मा के बाद एशिया में सबसे अमीर आदमी हैं। वैसे आपको बता दें कि अंबानी नाम का मतलब होता है पैसा ही पैसा। भारत के सबसे अमीर घराने की बहु नीता अंबानी अपनी लाइफ स्टाइल की वजह से अक्सर चर्चा में रहती हैं।

PunjabKesari

इन दिनों सोशल मीडिया पर उनकी मंहगी साड़ी से लेकर स्पेशल चाय के खूब चर्चे हो रहे हैं लेकिन क्या आपको पता है कि आज के समय में भारत की सबसे अमीर और शक्तिशाली महिला के रूप में जाने जाने वाली नीता अंबानी शादी से पहले मात्र 800 रूपए की नौकरी करती थीं। इससे भी अधिक दिलचस्प है मुकेश अंबानी और नीता के रिश्ते की कहानी। 

PunjabKesari
दरअसल, जब धीरू भाई अंबानी के बड़े बेटे मुकेश अंबानी का रिश्ता नीता के लिए पहुंचा तो सामान्य परिवार से ताल्लुख रखने के बावजूद नीता ने इसके लिए एक बड़ी शर्त रख  दी थी। आज हम आपको अपनी इस विशेष रिपोर्ट में यही बताने जा रहे हैं किस शर्त पर  नीता और मुकेश अंबानी का रिश्ता मुकम्मल हुआ था

PunjabKesari

धीरू भाई ने खुद चुना था नीता को बहु के रूप में

कहते हैं जोड़िया स्वर्ग में बनती हैं। नीता और मुकेश अंबानी की जोड़ी भी कुछ ऐसी ही है। सामान्य परिवार के नीता की धीरू भाई अंबानी की बहु बनने की कहानी बेहद रोचक है। दरअसल रिलाएंस इडस्ट्रीज के संस्थापक भीरू भाई अंबानी ने खुद ही नीता को एक सामारोह में देख कर अपने बहु बनाने की सोची थी । असल में हुआ ये था कि उस समय नीता के पिता बिड़ला ग्रुप में काम करते थे।

PunjabKesari

इसी दौरान बिड़ला परिवार में एक आयोजन हुआ था जिसमें नीता ने भरतनाट्यम की प्रस्तुति दी थी । नीता के प्रस्तुति को देख धीरू भाई अंबानी ऐसे प्रभावित हुए कि उन्होनें नीता को अपनी बहु बनाने का मन बना लिया और कार्यक्रम के आयोजको से नीता का पता और फोन नम्बर मालूम कर खुद ही सम्पर्क भी किया।

PunjabKesari

धीरू भाई के प्रस्ताव को नीता समझ बैठी थी मजाक

धीरू भाई अंबानी का नीता को सम्पर्क करने का वाक्या भी बेहद दिलचस्प है जिसके बारे में नीता ने खुद ही एक इंटरव्यू में बताया था । दरअसल जब धीरू भाई ने नीता के घर बात करने के लिए फोन किया था तो वो कॉल खुद नीता ने उठाया था और जब सामने से ये कहा गया कि धीरू भाई अंबानी  बोल रहे हैं तो नीता को यंकीन ही नही हुआ। नीता को लगा कि कोई मजाक कर रह है इस सोच से नीता ने भी कह दिया कि मै भी एलिजाबेथ टेलर बोल रही हूँ और फोन काट दिया लेकिन इसके बाद जब फिर से धीरू भाई ने फिर फोन किया तो इस बार नीता के पिता ने फोन उठाया और वह धीरू भाई की आवाज पहचान गए।

PunjabKesari

पूरी बात जानने के बाद नीता के पिता ने उनसे कहा कि वह धीरू भाई से जाकर मिलें और फिर पिता के थोड़ा मनाए जाने के बाद नीता धीरू भाई से मिलने के लिए तैयार हो गईं। नीता, धीरू भाई से मिलने उनके कार्यालय पहुंची जहां उन्होने नीता से खाना बनाने, उनकी आदतों, शिक्षा सहित कई चीजों के बारे में पूछा। इसके बाद धीरू भाई ने उन्हें अपने घर आने का न्यौता दिया और साथ ही धीरू भाई ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह उन्हें मुकेश की पत्नी के रूप में देख रहे हैं।

PunjabKesari

नीता और मुकेश अंबानी यूँ मिले थे पहली बार

धीरू भाई के प्रस्ताव के बारे में अपने परिवार के साथ चर्चा करने के बाद नीता धीरू भाई के घर गईं और नीता जब वहां पहुंचीं तो मुकेश ने घर का दरवाजा खोला.. मुकेश नीता को देखते ही पहचान गए क्योंकि धीरू भाई लगातार उनसे नीता के बारे कर रहे थे। फिर वहां मुकेश और नीता की  एक-दूसरे से बातचीत हई और आगे भी मिलने का कार्यक्रम तय हुआ ।

PunjabKesari

मुकेश के प्रस्ताव पर नीता ने रखी ऐसी शर्त

कुछ ही दिनों में मुकेश और नीता एक दूसरे को डेट करने लगे। लेकिन जब मुकेश अंबानी ने नीता के सामने शादी का प्रस्ताव रखा तो नीता ने भी एक शर्त रख दी और वो ये थी कि वो शादी कर देश के सबसे अमीर घराने की बहू बनने के बाद भी एक सामान्य जीवन जीना चाहती थी और वर्तमान नौकरी  करना चाहती थी ।

PunjabKesari

दरअसल उस समय नीता स्कूल के बच्चों को पढ़ाती थी जहा उनको 800 रुपये मिलते थे और नीता ये नौकरी किसी भी शर्त पर छोड़ना नही चाहती थीं क्योंकि उनको बच्चो को पढ़ाने का बहुत शौक था जिसके कारण उन्होनें मुकेश अंबानी से शादी करने के बाद भी स्कूल में जॉब करने की शर्त रखी थी। हालांकि नीता के इस अजीब सी शर्त पर भी मुकेश राजी हो गए और उन्हें पढ़ाने की परमिशन दे दी थी और इस शर्त के साथ नीता और मुकेश अंबानी का रिश्ता मुकम्मल हुआ जो कि आज कि एक पॉवर कपल के रूप में जाने जाते हैं ।


neeta ambani Mukesh Ambani life Tragedy
loading...