main page

'जिंदगी कैसी है पहेली' लिखने वाले गीतकार योगेश गौर का 77 की उम्र में निधन, लता मंगेशकर ने जताया दुख

30 May, 2020 07:31:00 AM

60 और 70 के दशक के फेमस सिंगर योगेश गौर का निधन हो गया हैं। योगेश ने  शुक्रवार को 77 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली।उनके निधन पर हिंदी सिनेमा जगत के जाने-माने स्टार्स ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

मुंबई: 60 और 70 के दशक के फेमस सिंगर योगेश गौर का निधन हो गया हैं। योगेश ने  शुक्रवार को 77 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली।उनके निधन पर हिंदी सिनेमा जगत के जाने-माने स्टार्स ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

Bollywood Tadka

गायिका लता मंगेशकर ने ट्वीट कर शोक जताया है।लता मंगेशकर ने अपने ट्वीट में लिखा 'मुझे अभी पता चला कि दिल को छूने वाले गीत लिखने वाले कवि योगेश जी का आज स्वर्गवास हुआ। ये सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ।

Bollywood Tadka

योगेश जी के लिखे कई गीत मैंने गाए। योगेश जी बहुत शांत और मधुर स्वभाव के इंसान थे। मैं उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पण करती हूं।' 

 


Bollywood Tadka

गीतकार वरुण ग्रोवर ने लिखा- 'अलविदा योगेश साब, कई अद्भुत गानों के लेखक जिनमें 'कहीं दूर जब', 'रिमझिम गिरे सावन', 'जिंदगी कैसी है पहेली' और अन्य हैं।' 

Bollywood Tadka

काम की बात करें तो योगेश ने अपने समय में सबसे बेहतरीन फिल्मकार रहे ऋषिकेश मुखर्जी, बासु चटर्जी आदि के साथ खूब काम किया है। हिंदी सिनेमा के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना की फिल्म 'आनंद' के लिए भी उन्होंने गीत लिखे हैं। उनके लिखे सबसे बेहतरीन गीतों में 'कहीं दूर जब दिन ढल जाए', 'जिंदगी कैसी है पहेली', 'रिमझिम गिरे सावन', 'कई बार यूं ही देखा है', 'ना बोले तुम ना मैंने कुछ कहा' आदि शामिल हैं। योगेश सिर्फ गीतों तक ही सीमित नहीं थे। उन्होंने फिल्मों के अलावा कई टीवी धारावाहिकों की कहानी भी लिखी। योगेश गौर की मुख्य फिल्मों में 'मिली', 'आजा मेरी जान', 'मंजिलें और भी हैं', 'बातों-बातों में', 'रजनीगंधा', 'मंजिल' और 'बेवफा सनम' सहित अन्य हैं। 

 


lyricist yogesh gaurpassed awaylata mangeshkarmournsdeathBollywoodBollywood News and GossipBollywood Box Office Masala NewsCelebrity
loading...