FacebookTwitterg+Mail

MOVIE REVIEW: 'यमला पगला दीवाना फिर से'

movie review of yamla pagla deewana phir se
31 August, 2018 12:36:21 PM

मुंबई: फिल्म 'यमला पगला दीवाना' की तीसरा पार्ट 'यमला पगला दीवाना फिर से' आज रिलीज हो गई है। इसके पहले पार्ट को समीर कार्णिक ने और दूसरे को संगीत सिवान ने डायरेक्ट किया था। अब लगभग 5 साल बाद इसका तीसरा पार्ट रिलीज हुआ है। 

कहानी

फिल्म की कहानी पंजाब से शुरू होती है जहां वैद्य पूरन सिंह (सनी देओल) अपने भाई काला (बॉबी देओल) और दो बच्चों के साथ रहता है। पूरन सिंह का एक किराएदार भी है जिसका नाम जयवंत परमार (धर्मेंद्र) है। जो पेशे से वकील भी है। पूरन सिंह के पास वज्र कवच नामक आयुर्वेदिक दवा बनाने का फार्मूला है, जिसका काम कई पीढ़ियों से चलता आ रहा है। उस फार्मूले के पीछे मशहूर बिजनेसमैन माफतिया लग जाता है। कहानी में चीकू (कृति खरबंदा) की एंट्री होती है जो कि एक डेंटिस्ट है और सिलसिलेवार घटनाओं में उसकी मुलाकात पूरन सिंह और काला से होती है। कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब बिजनेसमैन माफिया अपनी तरफ से पूरण सिंह के ऊपर दवा का फॉर्मूला चोरी करने का केस करता है और कहानी पंजाब से गुजरात पहुंच जाती है। अंततः क्या होता है यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

 

कमजोर कड़ियां

फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी कहानी है जो काफी आउटडेटेड सी नज़र आती है और बांध पाने में असमर्थ दिखाई देती है। सनी देओल-बॉबी देओल और धर्मेंद्र जैसे बड़े-बड़े कलाकार की अदाकारी कहानी की वजह से फीकी पड़ जाती है। डायरेक्शन भी काफी हिला हुआ है। कहानी सुनाने का ढंग भी काफी डगमगाया सा है। इसकी रफ्तार धीमी है जो दुरुस्त की जा सकती थी। इसके अलावा फिल्म के गाने रिलीज से पहले हिट नहीं हो पाए हैं। 


डायरेक्शन

धरम पाजी, सनी देओल और बॉबी देओल, तीनों अभिनेताओं ने बढ़िया काम किया है। इसके साथ ही अभिनेत्री कृति खरबंदा ने भी कहानी के मुताबिक ही अभिनय किया है। फिल्म की सबसे बढ़िया बात इसके आखिर में आने वाले गीत में दिखाई देती है जब सलमान खान, रेखा, सोनाक्षी सिन्हा एक साथ धर्मेंद्र के गाने रफ्ता-रफ्ता पर थिरकते हुए नजर आते हैं। लेकिन कहानी कमजोर होने की वजह से हर एक परफॉर्मेंस काफी निराशाजनक दिखाई देती है।


movie review Yamla Pagla Deewana Phir Se Sunny Deol Kriti Kharbanda Bobby Deol Dharmendra
loading...