main page

'भंगड़ा पा ले' के लिए श्रिया पिलगांवकर ने सीखा ढोल बजाना

15 October, 2019 04:44:12 PM

श्रिया पिलगांवकर (Shriya Pilgaonkar) को उनके द्वारा निभाए जाने वाले हर किरदार के लिए जाना जाता है। श्रिया डांस ड्रामा फिल्म ''भंगड़ा पा ले'' (Bhangra Paa Le) में सनी कौशल के अपोजिट नजर आएंगी| अपने किरदार को वास्तविक रूप देने के लिए श्रिया ने काफी मेहनत की है...

नई दिल्ली। श्रिया पिलगांवकर (Shriya Pilgaonkar) को उनके द्वारा निभाए जाने वाले हर किरदार के लिए जाना जाता है। श्रिया डांस ड्रामा फिल्म 'भंगड़ा पा ले' (Bhangra Paa Le) में सनी कौशल के अपोजिट नजर आएंगी| अपने किरदार को वास्तविक रूप देने के लिए श्रिया ने काफी मेहनत की है। 

अतीत और वर्तमान समय में आये बदलाव और रोमांस से भरपूर फिल्म 'भांगड़ा पा ले' में पंजाब से भांगड़ा के पारंपरिक फॉर्म और दुनिया भर के पश्चिमी डांस फॉर्म के बीच तालमेल देखने मिलेगा। फिल्म की इस कहानी  में श्रिया का किरदार अतीत से जुड़ा हुआ है| वे अपने चरित्र के साथ पूरा न्याय करना चाहती थी और यह सुनिश्चित करना चाहती थी कि वे इस फिल्म में  सहजता से  ढोल बजाए। इसी वजह से उन्होंने  ढोल बजाना सीख लिया है चुकी उनका  किरदार पंजाब की हृदयभूमि की एक उत्साही युवा लड़की है जिसे संगीत से प्यार है।

वास्तविकता लाने के लिए सीखा ढाेल बजाना
श्रिया का मानना है  की 'मैं बहुत खुश हू' की मुझे ऐसा मौका मिला जहा मैं खुद को चुनौती दे सकू, और कुछ नया हुनर सिख सकूं। मैं इस फिल्म में सन 1960 की पंजाबी लड़की निम्मो का किरदार निभा रही हु जिसे संगीत से बहुत प्यार है इस फिल्म में एक गाना  है जिसमे मैं ढोल बजाते हुए नजर आउंगी। मैं सुनिश्चित करना चाहती थी कि मैं इस फिल्म में सहजता से ढोल बजाऊ, आमतौर पे मैं ढोल के इर्दगिर्द नाचा  करती थी पर इस बार मैंने ढोल बजाना सीखा है, और यह प्रक्रिया बहुत ही मजेदार रहा।'

आरएसवीपी द्वारा निर्मित 'भांगड़ा पा ले' स्नेहा तौरानी द्वारा निर्देशित यह फिल्म 15 नवंबर 2019 में रिलीज के लिए तैयार है।उन्होंने कहा ,'जिस समय अली ने स्किप्ट के साथ मुझसे संपर्क किया, मैंने हां कह दिया। फिल्म में मेरा किरदार बहुत मजबूत और असामान्य है और मुझे इस भूमिका के लिए तैयार होने में ठीक दो महीने लगे थे। मैंने इसे एक चुनौती के रूप में लिया। मुझे खुशी है कि काफी अच्छा रहा और यह उस तरह से पूरा हुआ, जैसा मेरे द्वारा किए गए किसी भी काम में पहले कभी नहीं हुआ था।'उन्होंने आगे कहा, 'चूंकि फिल्म दशकों की कहानी बयां करती है, इसलिए टीम ने इस पर बहुत शोध किया है कि किरदार कैसे दिखेंगे। मुझे कड़ी मेहनत करनी पड़ी, ताकि भाषा पर बेहतर कमांड हो। सभी के लिए यह सीखने का एक शानदार अनुभव रहा है।'


hriya pilgaonkarश्रिया पिलगांवकरbollywood newsभंगड़ा पा लेBhangra Paa Le
loading...