FacebookTwitterg+Mail

गरीबी के कारण उस्ताद प्यारेलाल वडाली छोटे होते हुए रासलीला में बनते थे कृष्ण

ustad pyare lal wadali ji
11 March, 2018 02:03:12 AM

जालंधरः उस्ताद पुरन चंद वडाली के भाई उस्ताद प्यारेलाल वडाली का शुक्रवार की सुबह अमृतसर में 75 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने अपनी आखिरी सांस अमृतसर के फोर्टिस एस्कॉर्ट हास्पिटल में ली। बीमार होने की वजह से उन्हें गुरुवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पंजाबी सूफी भाईयों की जोड़ी 'वडाली ब्रदर्स' के नाम से पहचाने जाते रहे हैं।
PunjabKesari
अमृतसर के पास एक छोटे से गांव के रहने वाले वडाली ब्रदर्स दुनियाभर में अपनी गायकी के लिए काफी मशहूर थे। दोनों जालंधर के हरबल्ला मंदिर में परफॉर्म करने शुरू किया था। दोनों भाईयों की जोड़ी काफियां, गज़ल और भजन जैसी कई तरह की गायकी करते थे। जब वह छोटे थे तो गरीबी होने के कारण वे गांव में होने वाली रासलीला में कृष्ण जी का बनते थे। 
PunjabKesari
वडाली ब्रदर्स ने बॉलीवुड में 'ए रंगरेज मेरे', 'एक तू ही तू ही' जैसे गाने कई शानदार गाने भी दिये। उनका काफी मशहूर गाना 'तू माने या ना माने' इंटरनेट व लोगों में काफी पसंदीदा है।


ustad pyare lal wadali bollywood pollywood
loading...