FacebookTwitterg+Mail

‘खूबसूरत’ फिल्म के अभिनेता व अभिनेत्री पहुंचे 'पंजाब केसरी' कार्यालय

20 September, 2014 04:26:28 PM

जालंधर (सुनील कुमार धवन): ‘सांवरिया’, ‘आई हेट लव स्टोरीका’, ‘आयशा’, ‘रांझना’, ‘भाग मिल्खा भाग’, ‘बेवकूफियां’, ‘खूबसूरत’ जैसी फिल्मों में सफल अभिनय करने वाली बालीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर ने कहा है कि अगर उन्हें अच्छे किरदार वाली भूमिका मिलेगी तो वह हालीवुड में काम करना पसंद करेंगी।

सोनम ‘खूबसूरत’ फिल्म की प्रमोशन के लिए अभिनेता फवाद अफजल खान के साथ जालंधर आई हुई थीं। सोनम व फवाद अफजल खान पंजाब केसरी पत्र समूह के मुख्य सम्पादक श्री विजय चोपड़ा तथा उनके पारिवारिक सदस्यों से मिलने उनके निवास स्थान पर पहुंचे।

सोनम ने कहा कि हालीवुड में वह भारतीय लड़की के रूप में नहीं बल्कि एक अच्छी अभिनेत्री के चरित्र को प्रदर्शित करने के लिए कार्य करेंगी जिससे उन्हें कुछ और सीखने को मिल सके। उन्होंने कहा कि उन्हें अंग्रेजी, हिंदी, चीनी, तेलगू व पंजाबी सहित कई भाषाओं का ज्ञान है तथा उन्हें लगा कि किसी भी भाषा में वह बेहतर किरदार निभा सकती हैं तो वह काम करने से संकोच नहीं करेंगी।

यह पूछे जाने पर कि इस फिल्म में आपकी जो भूमिका है क्या वास्तविक जीवन में भी आप ऐसी हैं या नहीं, सोनम ने कहा कि फिल्म की तरह वह न तो डाक्टर है, न बंगाली और न ही दिल्ली की। परंतु वास्तविक जीवन में अधिकांश लड़कियां व युवाओं का व्यवहार इस फिल्म में उनके अभिनय से मिलता-जुलता है।

सोनम ने कहा कि हिंदी फिल्म ‘खूबसूरत’ एक प्रेम कहानी पर आधारित है। इसमें काफी हास्य भी है तथा पारिवारिक मनोरंजन भी। यह पूछे जाने पर कि 1980 के दशक में भी अभिनेत्री रेखा पर आधारित ‘खूबसूरत’ फिल्म आई थी तो उन्होंने कहा कि दोनों फिल्मों के नाम चाहे एक जैसे हैं परंतु कहानियां दोनों की अलग-अलग हैं। उन्होंने बताया कि रेखा ने विशेष रूप से उनकी फिल्म को देखा है तथा उन्हें फोन करके अच्छे अभिनय के लिए शुभकामनाएं दीं। रेखा ने कहा कि फिल्म में उन्होंने हर सीन बेहतर किया है इसलिए उन्हें सोनम व अफजल दोनों पर गर्व है।

जब उनसे पूछा गया कि वह स्वयं को फैशन आइकॉन कहलाना पसंद करेंगी या एक्टर, सोनम ने कहा कि वह एक्टर हैं इसलिए वह फैशन आइकॉन भी हैं। सोनम ने कहा कि उन्होंने फरहान अख्तर, आयुष्मान, धनुष और फवाद खान के साथ कार्य किया है तथा इन चारों अभिनेताओं में अपनी-अपनी खूबियां हैं। चारों ही अच्छे कलाकार हैं व उनमें अपना-अपना टैलेंट है इसलिए वह यह नहीं कहना चाहेंगी कि उनमें से कौन अच्छा है व कौन बुरा।

एक प्रश्र के उत्तर में सोनम ने कहा कि इन बातों में सच्चाई नहीं है कि वह अपने पिता को ज्यादा चाहती हैं क्योंकि बच्चे के लिए मां-बाप दोनों ही महत्वपूर्ण होते हैं। उन्होंने कहा कि अपने पिता अनिल कपूर की फिल्म ‘नो एंट्री’ उन्हें काफी अच्छी लगी थी तथा उन्होंने इस फिल्म को बार-बार देखा। यह काफी मजाकिया फिल्म थी। सोनम ने कहा कि युवा वर्ग अब टैलीविजन से भी काफी बंधा हुआ है। वह विभिन्न टैलीविजन शो व सीरियल देखते हैं। टी.वी. प्रोड्यूसर भी अच्छे शो व सीरियल बना रहे हैं इसलिए टी.वी. का अपना एक स्थान है।

अपनी आगामी हिंदी फिल्मों का जिक्र करते हुए सोनम ने कहा कि ‘डॉली की डोली’ फिल्म में वह एक पंजाबी लड़की की भूमिका अदा कर रही हैं जिसमें वह कई विवाह करती है व पति को छोड़ देती है। कहानी रोमांच से भरी हुई है। इसी तरह से फिल्म अभिनेता सलमान खान के साथ वह ‘प्रेम रत्न धन पायो’ में काम कर रही हैं। यह दोनों फिल्में अगले वर्ष रिलीज होंगी।

सोनम ने अपने चरित्र के बारे में बताते हुए कहा कि वह कभी भी जीवन में दिखावा करना पसंद नहीं करती हैं। जीवन में तनाव भरे क्षण तो आते ही हैं। अगर वह उदास होती हैं तो उदासी उनके चेहरे पर झलकती है पर अगर वह खुश होती हैं तो खुशी देखने को मिलती है। इसमें उसके चरित्र में कोई मिलावट दिखाई नहीं देती।

सोनम को फवाद की ‘गप्पे’ और फवाद को सोनम का ‘नो नैगेटिव एटीच्यूड’ पसंद
बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर और फवाद खान से जब पूछा गया कि उन्हें एक-दूसरे की कौन-सी खूबियां पसंद आईं, सोनम ने हंसते हुए कहा कि फवाद का गप्पे हांकना। सोनम ने कहा कि ‘‘उन्हें फावद खान जैसा लड़का शादी के लिए कहां से मिलेगा क्योंकि वह शादीशुदा हैं।’’ 

दूसरी ओर फवाद ने कहा कि उन्हें सोनम का नो नैगेटिव एटीच्यूड पसंद आया। उन्होंने कहा कि सोनम कपूर एक खुले दिल वाली लड़की है जिनके मन में कोई नकारात्मक बात नहीं होती है। उनके विचार हमेशा शुद्ध होते हैं तथा वह सकारात्मक सोचती हैं। उन्हें सोनम के साथ कार्य करके अच्छा लगा क्योंकि सोनम ने कभी भी कोई दिखावा नहीं किया।

3-4 बरस तक सोनम का शादी का इरादा नहीं
बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर ने कहा है कि अगले 3-4 बरस तक उनका शादी करने का कोई इरादा नहीं है। अभी वह बॉलीवुड में और अच्छा अभिनय करके नाम कमाना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि शादी के बारे में तो उन्होंने अभी कुछ सोचा भी नहीं है और न ही उनके जीवन में कोई अन्य व्यक्ति आया है।

सौ करोड़ी फिल्मों के विवाद में नहीं पडऩा चाहती
अभिनेत्री सोनम कपूर ने कहा है कि चाहे भारतीय फिल्म जगत में आजकल सौ, दो सौ या तीन सौ करोड़ का कारोबार करने वाली फिल्मों को लेकर काफी शोर मच रहा है परंतु वह इस विवाद में पडऩा नहीं चाहती हैं। उनका ध्यान फिल्मों के कारोबार की तरफ नहीं बल्कि वह तो अपना ध्यान अपने अभिनय तक केंद्रित करना चाहती हैं।

पहली बॉलीवुड मूवी में काम करते समय दबाव नहीं था : फवाद अफजल खान
2007 में पाकिस्तानी फिल्म ‘खुदा के लिए’ से अपना फिल्मी करियर शुरू करने वाले अभिनेता फवाद अफजल खान ने कहा है कि पाकिस्तान में तो उन्होंने कई टी.वी. धारावाहिकों व फिल्मों में कार्य किया परन्तु भारत में पहली बार बालीवुड फिल्म में काम करते समय उन पर कोई दबाव नहीं था। वह स्वयं को सहज महसूस कर रहे थे। यह उनके लिए कुछ और जानने का समय था। आम कलाकारों में जितनी नर्वसनैस होती है उतनी उनमें भी थी परंतु 12 महीनों का सफर काफी मनोरंजक रहा। इस दौरान काफी दोस्तियां भी हुईं।

जब उनसे पूछा गया कि पाकिस्तान में आप टैलीविजन के बादशाह माने जाते हो तो क्या बॉलीवुड में काम करने पर उनके समक्ष कोई चुनौतियां आएंगी, उन्होंने कहा कि वह नहीं समझते कि बॉलीवुड में उनके सामने कोई चुनौती आएगी। वह बॉलीवुड में काम करते समय स्वयं को सहज महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके काम या परफार्मैंस में कोई रुकावट नहीं आई। काम अच्छा हो तो अनुकूल नतीजे प्राप्त हो जाते हैं तथा ऐसा करते समय उनमें कोई झिझक भी नहीं थी। 

उन्होंने कहा कि वह भी हॉलीवुड में काम करना चाहेंगे। प्रत्येक कलाकार की इच्छा होती है कि वह हॉलीवुड में कार्य करे क्योंकि तभी एक कलाकार का जीवन और निखरता है। उन्होंने कहा कि ‘खूबसूरत’ फिल्म का निर्माण जब हो रहा था तो पाक आवाम ने उन्हें शुभकामनाएं दीं तथा वहां के लोगों ने उनके लिए दुआएं मांगी। खान ने कहा कि टैलीविजन घरों में आसानी से उपलब्ध होने वाला सिनेमा है।

इंगलैंड में तो फिल्म एक्टर टैलीविजन में कार्य करते हैं। अगर मैं भारतीय टैलीविजन में भी काम करूं तो उसमें कोई शर्म नहीं होनी चाहिए। किसी न किसी दिन मुझे इसका भी हिस्सा बनना पड़ेगा। भारतीय टैलीविजन काफी लोकप्रिय है। पाकिस्तान में भी लोग टैलीविजन को काफी सराहते हैं तथा कई धारावाहिक तो 5-6 वर्षों तक चलते हैं।

फवाद खान ने कहा कि वह फिल्मों में अभिनय के साथ-साथ फिल्मों का निर्देशन करना भी चाहेंगे। अगर उन्हें फिल्म डायरैक्टर बनने का मौका मिला तो वह इस भूमिका में भी प्रसन्नचित होंगे। कैमरे के पीछे काम करने का अपना ही मजा है। फिल्म निर्माण में डायरैक्टर की अहम भूमिका होती है।


खूबसूरत सोनम कपूर फवाद खान सलमान खान पंजाब केसरी फरहान अख्तर आयुष्मान धनुष फवाद खान सुनील कुमार धवन
loading...