FacebookTwitterg+Mail

Movie Review: 'पार्टीशन 1947'

movie review of partition 1947
18 August, 2017 09:48:03 AM

मुंबई: बॉलीवुड फिल्म 'पार्टिशन-1947' आज रिलीज हो गई है। ये फिल्म इंडिया-पाकिस्तान के बैकड्राप पर बनी एक लव-स्टोरी है। इस फिल्म को गुरिंदर चढ्डा ने डायरैक्ट किया है। यह कहानी 1945-47 के बीच की है। जब आखिरी वायसरॉय माउंटबेटन लुई इंडिया आए थे। जहां एक तरह इंडिया आजाद हो रहा था तो वहीं दूसरी तरफ जिन्ना अलग देश पाकिस्तान की मांग कर रहे थे। इस बंटवारे के बैकड्रॉप पर चल रही थी आलिया(हुमा कुरैशी) और जीत सिंह(मनीष दयाल) की लवस्टोरी। जिन्हें बंटवारे की वजह से कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। कहानी में ट्विस्ट आते हैं। लेकिन क्या होता है इस लवस्टोरी की अंदाज? इसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी। फिल्म की कहानी गुरिंदर चड्ढा ने गढ़ी है। जो कि रियल लोकेशन पर शूट हुई है। वहीं डायरैक्शन, स्क्रीनप्ले और एडिटिंग भी एकदम सटीक है। हालांकि फिल्म में जो बातें उस दौर की बताई गई हैं उसमें कहीं न कहीं फैक्चुअल बातें नहीं लगती हैं। वहीं यहां पर जो 40s के रील सीन्स दिखाए गए हैं वो रियल शूटिंग के काफी बेहतर है। कहानी ठीक है जो और बेहतर की जा सकती थी।

बता दें कि फिल्म में हुमा कुरैशी काफी अलग लग रही हैं। उन्होंने कैरेक्टर को काफी करीब से समझकर स्क्रीन पर उतारा है। वहीं उनके लवर बने मनीष ने काफी बेहतरीन एक्टिंग की है। फिल्म में ओम पुरी भी हैं जो हुमा के पिता के रोल में दिखे हैं। बाकी स्टार्स का काम भी अच्छा है। फिल्म में 'दमादम मस्त कलंदर' सॉन्ग डाला गया है। देखा जाए तो एआर रहमान का म्यूजिक अच्छा है। वहीं बैकग्राउंड स्कोर भी बढ़िया है।


Movie Review Partition 1947
loading...