FacebookTwitterg+Mail

शिवसेना ने किया नाहिद आफरीन का समर्थन, कहा- फतवा है 'मानसिक रोग'

shivsena supported singer nahid afreen and praises her talent
18 March, 2017 01:47:09 PM

मुंबई: इंडियन आइडल जूनियर की सिंगर नाहिद अफरीन को मिले फतवे पर चुप्‍पी साधे बैठे बॉलीवुड को शिवसेना ने आड़े हाथों लिया है। अपने मुखपत्र सामना के जरिए शिवसेना ने कहा है कि संजय लीला भंसाली की फिल्‍म पद्मावति के सेट पर हुई मारपीट को लेकर संसद में सवाल उठाने वाले इस मामले में खामोश बैठे हैं। पार्टी ने बॉलीवुड के उन तमाम लोगों पर सवाल उठाया है, जो लोग पाकिस्‍तानी गायकों और कलाकारों को भारत से निकाले जाने के खिलाफ थे अब उनकी जुबान पर ताले क्‍यों लग गए हैं। वह इस मामले में आगे आकर इसकी मजम्‍मत क्‍यों नहीं करते हैं।

इस मुखपत्र में लिखे संपादकीय में महेश भट्ट और जया बच्‍चन पर सीधेतौर पर निशाना साधा है। इसके अलावा बॉलीवुड के तीनों खानों को भी सवालों के कटघरे में खड़ा किया है। इसमें कहा गया है कि भट्ट और बच्‍चन को इस मामले में सामने आकर नाहिद का साथ देना चाहिए था और ऐसे फतवा जारी करने वालों की कड़ी आलोचना करनी चाहिए थी। इसके अलावा इस संपादकीय में यह भी कहा गया है कि कुछ समय पहले सहिष्‍णुता के मुद्दे पर देश छोड़ने की बात करने वाली आमिर खान की पत्‍नी और मिस्‍टर परफेक्‍शनिस्‍ट भी इस मामले में चुप हैं। इतना ही नहीं बॉलीवुड का कोई खान इस मामले में कुछ नहीं बोला है।

शिवसेना ने नाहिद की समर्थन करते हुए लिखा है कि उसने जिस तरह से फतवे को दरकिनार कर अपनी मुहिम को जारी रखने की बात कही है, उसके लिए वह तारीफ के काबिल है। पार्टी के मुखपत्र ने नाहिद की लड़ाई को सभी की लड़ाई बताते हुए इसका समर्थन करने की अपील की है। इसमें साफतौर पर कहा गया है कि जो लोग अभिव्‍यक्ति की आजादी के नाम पर छाती पीटने वालों का समर्थन करते हैं उन्‍हें आईना दिखाने की जरूरत है। 

गौरतलब है कि साल 2015 में इंडियन आइडल जूनियर में दूसरे नंबर पर रहने वाली 16 साल की सिंगर नाहिद आफरीन के खिलाफ 46 मौलवियों ने फतवा जारी किया है। इन फतवों पर नाहिद का कहना है कि वह इससे नहीं डरती है और ताउम्र गाती रहेंगी तथा कार्यक्रम पेश करती रहेंगी। मुस्लिम संगठनों के मौलवियों ने नाहिद के खिलाफ फतवा जारी करते हुए उन्हें मंच पर प्रस्तुति देने से मना किया है। उनका कहना है कि किसी भी लड़की का मंच पर प्रस्तुति देना शरिया कानूनों के खिलाफ है।

आफरीन के खिलाफ यह फतवा कब्रिस्तान और मस्जिद के पास एक प्रोग्राम आयोजित करने को लेकर जारी किया गया था। यह फतवा इसलिए जारी किया गया है ताकि उसे लोगों के सामने गाने से रोका जा सके। 

 


shivsena Support nahid Afrin Singer Nahid Afrin Indian Idol
loading...